भजन - सुन नाथ अरज अब मेरी मैं शरण पडा प्रभु तेरी

भजन - सुन नाथ अरज अब मेरी

सुन नाथ अरज अब मेरी ,
मैं शरण पडा प्रभु तेरी ॥
तुम मानुष तन मोहे दीन्हा
भजन प्रभु तुम्हारा नही कीन्हा
विषयों ने मेरी मति फेरी
मैं शरण पडा प्रभु तेरी - सुन नाथ . . . . .
सुत दारादिक ये परिवारा
तब स्वाथम का है संसारा
जिन हेतु पाप किये ढेरी
मैं शरण पडा प्रभु तेरी - सुन नाथ . . . . .
माया में ये जीव लुभाया
रूप नही पर तुम्हारा जाना
पडा जन्म मरण की फेरी
मैं शरण पडा प्रभु तेरी - सुन नाथ . . . . .
भवसागर में नीर अपारा
मोहे कृपालु प्रभु करो पारा
ब्रह्मानन्द करो नही देरी
मैं शरण पडा प्रभु तेरी - सुन नाथ . . . . .


bhajan - sun naath araj ab meree 

sun naath araj ab meree , 
main sharan pada prabhu teree . 
tum maanush tan mohe deenha 
bhajan prabhu tumhaara nahee keenha 
vishayon ne meree mati pheree 
main sharan pada prabhu teree - sun naath . . . . . 
sut daaraadik ye parivaara 
tab svaatham ka hai sansaara 
jin hetu paap kiye dheree 
main sharan pada prabhu teree - sun naath . . . . . 
maaya mein ye jeev lubhaaya 
roop nahee par tumhaara jaana 
pada janm maran kee pheree 
main sharan pada prabhu teree - sun naath . . . . . 
bhavasaagar mein neer apaara 
mohe krpaalu prabhu karo paara 
brahmaanand karo nahee deree 
main sharan pada prabhu teree - sun naath . . . . .
भजन - सुन नाथ अरज अब मेरी मैं शरण पडा प्रभु तेरी
बोलो जय नाथ की 

Post a Comment

0 Comments